40 दिन बीत गए लेकिन भाई को नही मिला न्याय,आत्महत्या के लिए उकसाने वाला मंगेतर अब भी पुलिस के गिरफ्त से बाहर।

कीताडीह निवासी के एक भाई को बहन के आत्महत्या करने के 40 दिन बाद भी न्याय नहीं मिल पाया है| वहीं पुलिस को साक्ष्य मिलने के बावजूद आरोपी को गिरफ्तार ना कर हाथ पर हाथ धरे बैठी हुई है। सतीश कुमार प्रसाद की छोटी बहन अनुराधा कुमारी ने 11 मार्च को अपने घर में फंदे से लटककर जान दे दी जिसकी जानकारी मोबाइल के माध्यम से यह मिली की उसका मंगेतर के उकसाने पर ही उसने आत्महत्या की है। अनुराधा मानगो वन विभाग में वंरक्षी के पद पर कार्यरत थी I जिसका विवाह पलामू के जपला के रहने वाले संदीप प्रसाद के साथ 30 अप्रैल को होने वाली थी| संदीप प्रसाद हैदराबाद में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं, दोनों की फोन के माध्यम से अक्सर बातचीत होती थी|

कुछ दिन पूर्व दोनों परिवारों में विवाह का दिन तय हो जाने के बाद अचानक संदीप ने अनुराधा पर, छोड़ देने का दवाब देने लगा तर्क था कि अगर वह उससे शादी करना चाहती है तो वह नौकरी छोड़ दें अन्यथा खुद ही शादी से इंकार कर दे। घटना के दिन भी दोनों के बीच काफी बहस हुई थी, जिसके बाद अनुराधा ने अपने कमरे में जाकर आत्महत्या कर ली ये सारी जानकारी व्हाट्सएप के मैसेज से प्राप्त हुई जिसे साक्ष्य के रूप में परिवार वालों ने पुलिस को मोबाइल सौंप दी| बावजूद 40 दिन गुजर गए लेकिन आरोपी मंगेतर संदीप की गिरफ्तारी नहीं हुई और ना ही किसी प्रकार का कार्यवाही ही की गई मृतिका के भाई सतीश प्रसाद इस मामले को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष अपनी छोटी बहन को न्याय दिलाने के लिए चक्कर काट रहा है| इतना ही नहीं उन्होंने ट्विटर के माध्यम से मुख्यमंत्री को भी ध्यान आकर्षित कराया लेकिन उसे अब तक न्याय नहीं मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!