न्याय पंच के लिए मानकी मुंडाओं ने माननीय मुख्यमंत्री और विधायक के प्रति जताया आभार

चाईबासा। कोल्हान में मानकी मुंडा व्यवस्था को सुदृढ़ करते हुए न्याय पंच की न्यायिक प्रक्रिया का शुभारंभ किए जाने पर मानकी मुंडाओं ने माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और विधायक दीपक बिरुवा के प्रति आभार जताया, वहीं इस अभियान में सक्रिय भूमिका निभाने वाले विधायक समेत कानूनी सलाहकार सह अधिवक्ताओं को भी सम्मानित किया। इस बाबत सोमवार को चाईबासा गांधी मैदान में मानकी मुंडा कोल्हान पोड़ाहाट केंद्रीय समिति के तत्वावधान में सामाजिक जागरुकता सह आभार कार्यक्रम आयोजित किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि चाईबासा विधायक दीपक बिरुवा ने कहा कि 1837 में विलकिंसन रूल्स लागू हुआ था। पर व्यवस्था कार्य प्रणाली में नहीं आ सकी। न्याय पंच नहीं होने के कारण लोग अपने मामलों के निपटारे के लिए हाई कोर्ट तक जाते थे। पर हाई कोर्ट में रुल्स-20 के अधीन मामले को देखते हुए वापस भेज दिया जाता था। लेकिन 2 फरवरी 2021 को पहली बार राज्य के मुख्यमंत्री माननीय हेमंत सोरेन ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए सेरेंगसिया शहीद दिवस पर न्याय पंच का आनलाइन शुभारंभ किया। जहां से अब वर्षो से लंबित दीवानी मामलों का सस्ता, सुलभ और त्वरित न्याय लोगों को मिलेगा। विधायक दीपक बिरुवा ने न्याय पंच कार्यालय शुभारम्भ के लिए माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रति आभार जताया, वहीं आयुक्त और उपायुक्त को भी धन्यवाद दिया।

कार्यक्रम में न्याय पंच कार्यालय शुरू होने सक्रिय भूमिका निभाने वालों को शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। जिसमें इस अभियान को मूर्त रूप देने वाले विधायक दीपक बिरुवा, मानकी मुंडा संघ के कानूनी सलाहकार अधिवक्ता महेंद्र दोराईबुरु, अधिवक्ता प्रेमिका दोराईबुरु, अधिवक्ता मनीषा आइंद, मोतीलाल हेंब्रम, नरेंद्र तियू, सुभाष चंद्र मिश्रा, मानकी मुंडा संघ के अध्यक्ष गणेश पाट पिंगुवा, पूर्व अध्यक्ष अंतु हेंब्रम को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मानकी मुंडा संघ के अध्यक्ष गणेश पाट पिंगुवा ने कहा कि न्याय पंच शुरू होने से एकबार फिर मानकी मुंडा व्यवस्था पुनर्जीवित हो गई। इसके माननीय मुख्यमंत्री और चाईबासा विधायक दीपक बिरुवा धन्यवाद के पात्र हैं।

मानकी शिव चरण पाड़िया ने कहा कि इस न्याय संघर्ष में विधायक दीपक बिरुवा और अधिवक्ताओं की मेहनत रंग लाई। लोकतंत्र के चार स्तंभों में न्यायपालिका भी है। माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने न्याय पंच शुरू कराकर न्यायपालिका की मानकी मुंडा व्यवस्था को जीवित कर दिया है। मानकी मुंडा संघ के कानूनी सलाहकार अधिवक्ता महेंद्र दोराईबुरु ने कहा कि 1837 के बाद न्याय पंच को मूर्त रूप देने में वर्षों बीत गए। न्याय पंच लाने में विधायक दीपक बिरुवा ने सक्रिय भूमिका निभाई है। और अब न्याय पंच में गरीब ग्रामीणों को सस्ता, सुलभ एवं त्वरित न्याय प्राप्त होगा। कार्यक्रम को संघ अध्यक्ष गणेश पाट पिंगुवा, मुंडा गोविंद पूर्ति, राज नितेश पिंगुवा ने भी संबोधित किया।

इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ शहीद स्मारक पर दिउरी नारायण देवगम, सहयोगी हरिश देवगम, दीपक देवगम द्वारा पूजा अर्चना कर की गई। इस दौरान विभिन्न मौजा से ग्रामीण दमा दुमंग के अपने मानकी मुंडा के नेतृत्व में गांधी मैदान पहुंचते रहे। कार्यक्रम का संचालन मानकी अभय सोय तथा धन्यवाद ज्ञापन मानकी मुंडा संघ के महासचिव रामेश्वर सिंह कुंटिया ने किया। कार्यक्रम में विभिन्न मौजा ग्राम के मानकी मुंडाओं में दुर्गा सुंडी, जमादार लागुरी, दलपत देवगम, धनुर्जय देवगम, दूधनाथ तियू, सोमनाथ सिंकू, चरण बोदरा, सुनील देवगम, संग्राम सिंह समेत डाकुवा और ग्रामीण मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!