चाईबासा के ओम नर्सिंग होम में सर्जरी करवाने वाले टोन्टो के दो स्तन कैंसर पीड़ित महिलाओं की जान खतरे में

चाईबासा। जिले के किसी भी सरकारी व प्राईवेट अस्पतालों में कैंसर का ईलाज नहीं होता है ना ही सर्जरी।लेकिन चाईबासा चक्रधरपुर मुख्य पथ पर चाईबासा शहर से सटे संकोसाई के पास निजी ओम नरसिंग होम अस्पताल मे गैर कानूनी तरीक़े से मनमानी फीस लेकर कैंसर के मरीजों की सर्जरी की जा रही है। जिसका शिकार गांव के भोले भाले ग्रामीण हो रहे हैं। यह मामला प्रकाश में आने पर सांसद गीता कोड़ा ने शुक्रवार को अस्पताल के डॉक्टर को फोन पर पुछ ताछ कर हरकाया तो ओम नर्सिग होम के संचालक नें मरीज के परिजनों को फोन कर पैसे वापस ले जाने को कहा। टोंटो प्रखंड अन्तर्गत नीमडीह पंचायत के हेस्सा सुरनिया गांव निवासी रेंसो हेस्सा की 40 वर्षीया पत्नी शांति हेस्सा पिछले कई सालों से स्तन कैंसर से पीड़ित थी। उसका सर्जरी 3 नवंबर 20 को चाईबासा चक्रधरपुर मुख्य मार्ग स्थित संकोसाई के पास ओम नर्सिंग होम में कराया गया। पति रेन्सो के अनुसार डाक्टर एलके साहू ने सर्जरी के 70 हजार रुपए लिये। ऑपरेशन के कुछ दिन बाद से ही दाएं स्तन के जख्म से मवाद पानी निकलने लगा साथ ही उसके दाएं हाथ मे भी इंफेक्शन हो गया। धीरे-धीरे उसका दाएं स्तन और हाथ सड़ने व गलने लगा है।पति ने इस बीच दो-तीन बार फिर फिर ओम नर्सिंग अस्पताल में पत्नी को दिखाया। डॉक्टर ने तीनों बार यह बात कह कर मरीज को दवा दी कि इसी दवा से ठीक हो जाएगा। लेकिन मरीज की स्थिति दिनोंदिन खराब होती चली गई । घर कीआर्थिक हालत काफी नाजुक होने के कारण मरीज के पति ने हाथ खड़े कर दिए। अब घर में ही मरीज मरणासन्न की स्थिति में बेड पर पड़ी हुई है।

ओम नर्सिंग होम कैंसर का नहीं है। वहां कैंसर स्पेशलिस्ट डाक्टर भी नहीं है। फिर कैसे कैंसर के मरीजों की सर्जरी वहां की जा रही है जो जांच का विषय है।जिसकी सूचना पर सदर अस्पताल के उपाधीक्षक सह प्रभारी सिविल सर्जन ने कैंसर पीड़ित दोनों मरीज को कैंसर अस्पताल में रेफर कर आयुष्मान कार्ड के तहत ईलाज कराने की बात कही है।लेकिन परिवार की आर्थिक हालत इतनी नाजुक है कि मरीज को अस्पताल में देखरेख करने वाले अटेन्डर के खाने पीने की भी समस्या खड़ी है।इसी निजी अस्पताल में इससे पूर्व 8 अक्टूबर 2020 को टोन्टो प्रख़ंड के ही सुन्डी सुरनिया के चम्बरा हेस्सा की स्तन कैंसर से पीड़ित पत्नी बेलमती हेस्सा का भी 40 हजार रुपए लेकर सर्जरी की गई है। आपरेशन के बाद बेलमती की हालत भी गंभीर हो गई थी। उसे सदर अस्पताल से क्युरी अब्दुल रज्जाक अन्सारी कैंसर अस्पताल राची रेफर किया गया है।वहां आयुष्मान बीमा योजना से मरीज का ईलाज होगा। मरीज की जाचं प्रक्रिया चल रही है।इसकी शिकायत पश्चिमी सिंहभूम के सांसद गीता कोड़ा को मिली तो उन्होंने ओम नर्सिंग अस्पताल के डॉक्टर एलके साहू को फोन पर हड़काया। उन्होंने डॉक्टर को अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने की भी चेतावनी दी। सांसद के हड़काने पर डॉक्टर ने दोनों मरीजों को निजी खर्चे पर गांव से लाकर इलाज का आश्वासन दिया है। सांसद ने दोनों मरीजों के इलाज में लापरवाही बरतने पर अस्पताल के डॉक्टर एल के साहू को अस्पताल का लाइसेंस रद्द करवा देने की चेतावनी दी है।जिस पर डॉक्टर ने दोनों मरीज को अपने निजी खर्चे पर इलाज कराने का आश्वासन दिया है।ओम नर्सिंग होम के डॉक्टर एलके साहू ने कहा कि कैंसर के मरीजों का सर्जरी जमशेदपुर के दो कैंसर सर्जन से सर्जरी कराया जाता है।समय पर मरीजों को चेकअप के लिए नहीं लाया गया।संपर्क भी नहीं हो पाया। जिस कारण कारण केस खराब हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!