बैंको के निजीकरण के विरोध में 15 और 16 मार्च को देश के 13 हज़ार बैंक कर्मी करेंगे हड़ताल

केंद्र सरकार के जन विरोधी नीतियों एवं बैंकों के निजीकरण के विरोध में देश के 13 लाख बैंक कर्मी 15 और 16 मार्च को देशव्यापी हड़ताल का निर्णय लिया है।
देश में बैंकों के निजीकरण और अन्य समस्याओं की मांग को लेकर बैंक कर्मी इंप्लाइज यूनियन लगातार आंदोलन कर रहे हैं जिसके तहत कई बार बैंक कर्मी धरना प्रदर्शन और हड़ताल भी कर चुके है। लेकिन अब बैंक कर्मी अपनी मांगों को लेकर किसान आंदोलन की राह पर चलने को तैयार हैं।

जमशेदपुर में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन ने बैठक कर यह जानकारी दी है कि 15 और 16 मार्च को देशभर में बैंक कर्मी हड़ताल पर रहने का निर्णय लिया है। इस दौरान ग्रामीण और कॉर्पोरेट बैंक के कुल 13 लाख के लगभग बैंक कर्मी हड़ताल पर रहेंगे यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के संयोजक ने बताया है कि देश में बैंकों में एनपीए की बढ़ती संख्या के लिए बैंक कर्मी जिम्मेदार नहीं है इसके लिए सरकार को ठोस कदम उठाना चाहिए। बड़े उद्योगपतियों द्वारा ही बैंकों से लोन लेकर उसका ऋण नहीं चुकाया गया है इसके कारण उसका खामियाजा बैंकों को भुगतना पड़ रहा है सरकार वैसे लोगो के संपत्ति की कुर्की कर ऋण की भरपाई करें तभी बैंक सुरक्षित रह पायेगा उन्होंने बताया कि अगर सरकार 15 और 16 के हड़ताल पर भी कोई सुनवाई नहीं करती है तो आगामी दिनों में अनिश्चित बैंक हड़ताल करने पर मजबूर हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!