गृहस्वामिनी इंटरनेशनल ई मैगजीन और सवेरा- एक नई उम्मीद के संयुक्त तत्वावधान में पद्मश्री छुटनी महतों का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सम्मानित करने उनके गांव गए।

गृहस्वामिनी इंटरनेशनल ई मैगजीन और सवेरा- एक नई उम्मीद के संयुक्त तत्वावधान में पद्मश्री छुटनी महतों का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सम्मानित करने उनके गांव गए। गृहस्वामिनी की संपादक और सवेरा की संस्थापक अर्पणा संत सिंह ने कहा महिला सशक्तिकरण की जीवंत रूप है छुटनी महतो जो कभी पीडिता थी अभ वो संरक्षिका बन गई हैं।समाज सेविका एवं सवेरा की संरक्षिका पूर्वी घोष ने कहा कि संघर्षों से भरा जीवन रहा है छुटनी जी का और पद्मश्री उन संघर्षों का पुस्कार और सभी पीडिता नारियों के लिए प्रेरणास्रोत हैं। सवेरा की संस्थापक सदस्य की खुशबू सिंह और रीता रॉय ने पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया। छुटनी महतो ने कहा आप लोगों को भी छुटनी की ताकत बनाना होगा… एक छुटनी से नही बल्कि कई छुटनी के संघर्ष से ही डायन प्रथा जैसी कुरीति और अंधविश्वास का खात्मा हो सकता है। टीम सवेरा और गृहस्वामिनी ने छुटनी जी से वादा किया है कि वे सब मिलकर काम करेंगे।

सवेरा-एक नई शुरुआत हमारी संस्था पहले राष्ट्रीय स्तर पर फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कार्यरत रहने का प्रयास करेगी । जिसका मुख्य उद्देश्य होगा नारी सशक्तिकरण, आदिवासी समाज का उत्थान, स्वस्थ्य समाज और पर्यावरण संरक्षण।

नारी सशक्तिकरण
-अश्लीलता विरोधी जागरूकता अभियान

-महिला अपराध विरोधी जागरूकता अभियान
-पीड़ित या पीड़िता के न्याय के लिए हरसंभव प्रयास
-दहेज विरोधी आंदोलन
-फुटपाथों पर पल रहे नवजीवन को सहयोग
-आदिवासी समुदाय में स्वास्थ्य एवं अंधविश्वास के प्रति जागरूकता अभियान
-आदिवासी बच्चों के लिए नव चेतना शिविर
-विक्षिप्त महिलाओं का उत्थान
-स्वच्छता अभियान

-वृक्षारोपण
-पर्यावरण संतुलन के लिए जागरूकता अभियान ।
-वृद्धाश्रम में सहयोग ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!