टाटा स्टील फाउंडेशन ने नोआमुंडी की महिला कोविड योद्धाओं को सम्मानित किया

चाईबासा। टाटा स्टील फाउंडेशन ने आज नोआमुंडी और आसपास के गांवों की महिला कोविड योद्धाओं को सम्मानित किया। यह कार्यक्रम जेआरडीटीटीआई, नोआमुंडी में आयोजित किया गया और इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सुश्री सुरभि भटनागर, प्रेसिडेंट, प्रेमा महिला समिति के साथ श्री तुलसीदास गनवीर, यूनिट हेड, टाटा स्टील फाउंडेशन ने हिस्सा लिया। महामारी के दौरान स्थानीय महिलाओं के योगदान को सम्मानित करने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और शाही एक्सपोर्ट प्रोजेक्ट की सदस्यों व सहियाओं समेत क्षेत्र की 50 से अधिक महिलाओं को महामारी के दौरान कोविड-19 से लड़ने और समुदाय की मदद करने में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रोजेक्ट ‘रिश्ता’ के सदस्यों ने नोआमुंडी की सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करने के लिए एक नृत्य भी प्रस्तुत किया। इसके अलावा, टाटा स्टील हॉस्पीटल की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ अनन्या पति ने सभी महिला प्रतिभागियों के साथ बातचीत की और उन्हें स्वच्छता एवं स्वास्थ्य के बारे में सुझाव दिए। इस कार्यक्रम को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह के तहत आयोजित किया गया था, जिसे हर साल 8 मार्च को मनाया जाता है।

महामारी के दौरान नोआमुंडी और आस-पास के गांवों की कई महिलाओं ने सभी की सुरक्षा और स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए अपने घरों से निकल कर अपने परिवार और समुदाय की मदद की। टाटा स्टील फाउंडेशन के ‘मानसी’ प्रोजेक्ट के साथ काम करने वाली सहियाआें ने भी पिछले साल लॉकडाउन के दौरान गर्भवती महिलाओं की मदद करने के लिए अथक प्रयास किए। इसी तरह, शाही एक्सपोर्ट प्रोजेक्ट के तहत काम करने वाली महिलाओं ने मास्क तैयार कर स्थानीय लोगों के बीच इसका वितरण किया। ऐसी कई महिलाएं थीं, जिन्होंने ग्रामीणों के बीच भोजन और किराने का सामान वितरित करने के लिए स्वेच्छा से काम किया। ऐसे ही एक स्वयंसेवक रत्नी महंत ने बताया, “मैं हर दिन उन लोगों को भोजन वितरित कराती थी, जो महामारी के दौरान सबसे अधिक प्रभावित थे, जैसे कि बुजुर्ग और विकलांग व्यक्ति।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!