वन विभाग के महिला कर्मी को आत्महत्या के लिए उकसाने वाले मंगेतर , 21 दिन बाद भी पुलिस के गिरफ्त से बाहर ।

जमशेदपुर के मांगों में वन विभाग में कार्यरत महिला वंरक्षी की आत्महत्या के 21 दिन बाद भी आत्महत्या के लोग सामने वाले मंगेतर की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है जिसको लेकर परिजन सिटी एसपी से भेंट करें न्याय की गुहार लगाते हुए गिरफ्तारी की मांग की है। जमशेदपुर के कीताडीह की रहने वाली अनुराधा कुमारी मानगो वन विभाग में वंरक्षी के पद पर कार्यरत थी उसका विवाह 30 अप्रैल 2021 को हैदराबाद के रहने वाले संदीप प्रसाद के साथ तय हुई थी संदीप प्रसाद एक प्राइवेट कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है लेकिन अचानक 11 मार्च को अनुराधा अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

परिवार वालों ने जब आत्महत्या कारणों की जानकारी के लिए उसके मोबाइल की जांच की तो पता चला कि अनुराधा बीपीएससी का फोरम भरी थी. जिसके बाद मंगेतर संदीप उससे नाराज रहने लगा और अनुराधा को नौकरी छोड़ देने के लिए दवाब देने लगा. उसका कहना था कि अगर शादी करती है तो उसको नौकरी छोड़नी होगी और नहीं तो वहां शादी से मुकर जाएं. जिसको लेकर घटना के समय भी दोनों के बीच काफी विवाद हुआ था और उसने आत्महत्या के लिए उकसाने वाले शब्दों का भी प्रयोग किया. जिसके बाद अनुराधा ने अपने कमरे में जाकर आत्महत्या कर ली इन सभी साक्ष्यों को परिवार वालों ने पुलिस को उपलब्ध करा दिए थे. बावजूद 21 दिन बीत जाने के बाद भी आरोपी मंगेतर संदीप को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं कर पाई है. जिसको लेकर मृतका के भाई सिटी एसपी से भेंट कर न्याय की मांग करते हुए आत्महत्या के लिए उकसाने वाले मंगेतर को गिरफ्तार करने की मांग की.भाई सतीश ने कहा कि अगर पुलिस इस पर जल्द कोई कार्रवाई नहीं करती है तो वह न्यायालय की शरण में जाने के लिए मजबूर हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!